PKL 9: Top 10 defenders to be seen in PKL auction


पीकेएल नीलामी में इन डिफेंडरों को मिल सकती है बड़ी बोली

प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) सीजन 9 की नीलामी में केवल 5 दिन बचे हैं। सभी टीमों ने रिटेन किए गए खिलाड़ियों की घोषणा कर दी है। इस पीकेएल सीज़न के लिए कुल 111 खिलाड़ियों को रिटेन किया गया है, जिसमें एलीट रिटेन्ड कैटेगरी में 19, रिटेन्ड यंग प्लेयर्स में 13 और न्यू यंग प्लेयर्स कैटेगरी में 38 शामिल हैं। रिटेन किए गए खिलाड़ी ज्यादातर रेडर होते हैं। लेकिन डिफेंडर एक टीम की जीत में उतनी ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं जितना कि रेडर। आइए नजर डालते हैं उन टॉप टेन डिफेंडरों पर जिन्हें मुंबई में 5 और 6 अगस्त को होने वाली नीलामी में रिटेन नहीं किया गया है, लेकिन टीमों पर नजर रखी जाएगी:

10. बाजीराव हॉज

प्रो कबड्डी लीग के सबसे प्रमुख राइट कवर डिफेंडर बाजीराव हॉज हैं, जो पिछले कुछ सीज़न में बंगाल वॉरियर्स के लिए सबसे मजबूत रक्षा स्तंभ साबित हुए हैं। उन्होंने अब तक 61 मैच खेले हैं और 95 अंक हासिल किए हैं। इस दौरान उन्होंने 246 टैकल किए जिसमें 90 सफल टैकल और 156 असफल टैकल शामिल थे। पीकेएल में उनका टैकल सक्सेस रेट 36.58 फीसदी है।

9. परवेश भैंसवाल

लेफ्ट कवर डिफेंडर परवेश भैंसवाल को सीजन 8 में गुजरात जायंट्स के लिए सबसे ज्यादा अंक हासिल करने के बावजूद टीम में बरकरार नहीं रखा जा सका। उन्होंने पिछले सीजन में 23 मैचों में 56 टैकल पॉइंट बनाए। जिसमें 2 हाई-5 और 10 सुपर टैकल शामिल हैं। वहीं उनका टैकल स्ट्राइक रेट 54 फीसदी रहा। भैंसवाल अपने ब्लॉक के लिए जाना जाता है। ब्लॉक एक ऐसी स्थिति है जो अक्सर हमलावर हमलावर को शक्ति के साथ रोकती है।

8. विशाल प्रभाकर माने

राइट कवर डिफेंस के मास्टर, विशाल माने कॉर्नर डिफेंडरों के साथ अपने डिफेंस से विपक्षी खेमे में दहशत पैदा करते हैं। उन्होंने अब तक 134 मैच खेले हैं और 203 अंक बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 538 टैकल किए हैं। पीकेएल में उनका टैकल सक्सेस रेट 36 फीसदी है। पीकेएल 5 में पटना पाइरेट्स ने माने को 36.5 लाख में नीलामी में खरीदा।

7. जोगिंदर नरवाल

लेफ्ट कार्नर डिफेंडर जोगिंदर अपने सटीक डिफेंस और फुर्ती से विपक्षी टीम को सांस नहीं लेने देते। उन्होंने अपने पीकेएल करियर की शुरुआत बेंगलुरु बुल्स के साथ की थी। नरवाल ने अब तक 101 मैच खेले हैं और 209 अंक बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 445 टैकल किए जिसमें 192 सफल टैकल और 253 असफल टैकल शामिल हैं। पीकेएल में उनका टैकल सक्सेस रेट 43% है।

6. गिरीश मारुति एर्नाकि

बाएं कोने के डिफेंडर गिरीश ने अब तक 125 मैच खेले हैं और 318 अंक बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 690 टैकल किए जिसमें 293 सफल टैकल और 397 असफल टैकल शामिल थे। पीकेएल में उनकी टैकल सक्सेस रेट 42% है।

5. रविंदर पहल

प्रो कबड्डी लीग में सर्वश्रेष्ठ बाएं कोने के डिफेंडरों में से एक, रविंदर पहल को व्यापक रूप से पीकेएल के सबसे चतुर, एथलेटिक और तकनीकी रूप से ध्वनि रक्षक के रूप में माना जाता है। प्रो कबड्डी लीग में रवींद्र पहल दाएं कोने की स्थिति में खेलते हैं। उनके साथियों ने पलक झपकते ही अपने प्रतिद्वंद्वी को चौंका देने की क्षमता के कारण उन्हें 'द हॉक' उपनाम दिया है।

पहल ने अब तक 120 मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 352 अंक बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 707 टैकल किए जिसमें 319 सफल टैकल और 388 असफल टैकल शामिल थे। पीकेएल में उनकी टैकल सक्सेस रेट 45% है।

4. फ़ज़ल अतरचाली

ईरान के 30 वर्षीय बाएं कोने के डिफेंडर फजल अत्राचली ने आगमन पर जबरदस्त प्रभाव डाला और रक्षा में सुरेंद्र नाडा की जगह ली। फजल का टैकल रेट अच्छा है। उन्होंने पीकेएल 4 में पटना के लिए खेला और टीम को खिताब जीतने में मदद की और इस प्रदर्शन के लिए उन्हें 'डिफेंडर ऑफ द सीजन' पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्होंने 56% की टैकल सक्सेस स्ट्राइक रेट के साथ 125 मैचों में 372 अंक बनाए हैं।

3. सुरेंद्र नाडा

सुमन के नाम से मशहूर पीकेएल जोड़ी के 'सु' सुरेंद्र नाडा इस पेशेवर लीग के सर्वश्रेष्ठ रक्षकों में से एक हैं। नाडा ने अपने पीकेएल करियर की शुरुआत यू मुंबा के साथ की और तुरंत ही मोहित के साथ बेहतरीन जोड़ी बनाने में कामयाब रहे। बाद में उन्होंने बेंगलुरु बुल्स की कप्तानी भी संभाली।

सुरेंद्र ने 92 मैचों में 291 अंक बनाए हैं। उन्होंने अब तक 513 टैकल किए हैं जिसमें 247 सफल टैकल और 266 असफल टैकल शामिल हैं। नाडा का टैकल सक्सेस स्ट्राइक रेट 48% है।

2. सौरभ नंदली

सीजन 8 में बेंगलुरु बुल्स के सबसे भरोसेमंद डिफेंडरों में से एक, दाएं हाथ के सौरभ नंदल को सीजन की नीलामी से पहले रिटेन नहीं किया जा सका लेकिन पिछले सीजन में उनके प्रदर्शन को देखते हुए कहा जा सकता है कि टीमों की नजर उन पर होगी। लेकिन क्या पीकेएल 8 में उनका प्रदर्शन औसत से ऊपर था और उन्होंने 24 मैचों में 69 अंक बनाए जिसमें 6 हाई-5 और 2 सुपर टैकल शामिल थे। वहीं, उनका टैकल स्ट्राइक रेट 62 फीसदी रहा।

1. सागर राठी

तमिल थलाइवाज के डिफेंडर सागर राठी ने सीजन 8 में अच्छा प्रदर्शन किया और 22 मैचों में 83 अंक बनाए। थलाइवाज के लिए उत्कृष्ट प्रदर्शन के बावजूद, वह फ्रैंचाइज़ी की नज़र को पकड़ने में नाकाम रहे और उन्हें बरकरार नहीं रखा गया। इसमें 8 हाई-5 और 8 सुपर टैकल शामिल हैं। वहीं उनका टैकल स्ट्राइक रेट 57 फीसदी रहा।